झंकृत

सप्तरंगी प्रेम 'सप्तरंगी प्रेम' ब्लॉग पर आज प्रेम की सघन अनुभूतियों को समेटता कवि कुलवंत सिंह का गीत 'झंकृत'. आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा... झन - झन झंकृत हृदय आज हैवपु में बजते सभी साज हैं ।पी आने का मिला भास हैमिटेगा चिर विछोह त्रास है ।मंद - मंद मादक बयार... [पूरी पोस्ट]
writer अभिलाषा

कुलवंत सिंह

views
7
upvote
1
downvote
0
rating
1
comments
6
[12 Jun 2010 00:35 AM]