तीरथ के तारणहार

नया ठौर तीर्थ पुरोहितों या पंडों के बारे में -तहलका- की यह रिपोर्ट पढ़िये, मजा आ जाएगा- संजीवपंडों का नाम भले ही कड़वे अनुभवों का पर्याय बन चुका हो मगर बदरी-केदार के पंडे अपनी विशेषताओं के कारण आज भी अपने यजमानों के दिलों में बसे हैं. मनोज रावत की रिपोर्टबात उन... [पूरी पोस्ट]
writer संजीव

साभारः तहलका

views
9
upvote
0
downvote
0
rating
0
comments
2
[01 Jun 2010 06:23 AM]