इतने आत्मविस्मृत क्यों हैं हम

bat-bebat हर देशवासी चाहता है कि अपने देश के गौरव, उसकी प्रतिष्ठा पर कोई आंच न आये। भले ही वह स्वयं देश के लिए ज्यादा कुछ नहीं कर पाता हो, अपने निजी कारोबार में व्यस्त रहता हो लेकिन देश तो सबके दिल में बसा होता है, रगों में धड़कता रहता है। और फिर जो मेहनत हम अपने... [पूरी पोस्ट]
writer डा.सुभाष राय
views
8
upvote
0
downvote
0
rating
0
comments
1
[11 May 2010 08:25 AM]