लघुकथा- समस्या

रतन चंद 'रत्नेश' गाँव में जाने पर सारी दिनचर्या बदल जाती है। समय से बँधे रहने के सिलसिले में भी पूर्णविराम–सा लग जाता है। न कोई आपाधापी और न कोई तनाव। यहाँ तक कि दुनिया में कहाँ क्या हो रहा है, यह जानने की भी चिन्ता नही सताती। न ही समाचारपत्रों को नियम से देखने का चाव... [पूरी पोस्ट]
writer रतन चंद रत्नेश

Story

views
19
upvote
3
downvote
0
rating
3
comments
3
[10 May 2010 04:23 AM]

Free Vedic Astrology From Astrobix