स्मृति शेष

जो न कह सके 18 फरवरी 2010 को सुबह सात बज कर दस मिनट पर माँ ने अंतिम साँस ली. कुछ दिन पहले ही मालूम हो गया था कि उनके जाने का समय आ रहा था. एक तरफ़ मन चाहता था कि वह हमेशा हमारे साथ रहें, दूसरी ओर सारे जीवन की उनकी शिक्षा थी कि तड़प तड़प कर जीना, कोई जीना नहीं और यह... [पूरी पोस्ट]
writer Sunil Deepak

भारत

views
33
upvote
3
downvote
0
rating
3
comments
13
[21 Mar 2010 00:58 AM]

Free Vedic Astrology From Astrobix