ऐसी भी क्या जल्दी थी

खंभा एक शाम हिमांशु का फोन आया। उसने कहा, “क्या करें! प्रभाष जी तो हाथ ही नहीं आ रहे हैं। अब बिना बातचीत के रिपोर्ट कैसे बनाएं।” तत्काल उनकी (प्रभाष जोशी) माताराम की इक बात दिमाग में चक्कर काटने लगती है, जिसका जिक्र स्वयं उन्होंने अपने कागद कारे में किया... [पूरी पोस्ट]
writer खंभा

प्रभाष जोशी

views
22
upvote
4
downvote
0
rating
4
comments
1
[06 Nov 2009 16:09 PM]